Share Market Me Paise Kaise Lagaye

शेयर मार्केट में मुनाफा कमाना बहुत मुश्किल नहीं है।अगर निवेश के वक्त कुछ बातों का ध्यान रखा जाए तो शेयर मार्केट में आप अच्छी कमाई कर सकते है।

कुछ गलतियों से बचकर आप शेयर मार्केट में अच्छा मुनाफा कमा सकते है। अगर किसी शेयर में हमें अच्छा प्रॉफिट हो गया है तो हम उसे बेचते नहीं है और यह सोचते है कि यह अभी ज्यादा बढ़ सकता है।

Share Market Me Paise Kaise Lagaye
Share Market Me Paise Kaise Lagaye

 

प्रॉफिट की चाहत कम करते हुए हमें यह समझना चाहिए कि हर स्टेप पर कुछ शेयर बेचने चाहिए। मान लें,हमारे पास किसी कंपनी के 1000 शेयर है जो हमने 20 रुपये की दर से खरीदे थे और जो अब बढ़कर 24 पर पहुंच गए है।

ऐसे में हमें उसमें से 300 बेच देने चाहिए और अगर वह 28 पर जाता है तो भी उसमें से 300 शेयर बेच दें। मतलब यह कि हमारे बाकी शेयरों की कॉस्टिंग बहुत कम हो जानी चाहिए। इस तरह से हमारा रिस्क कम होता चला जाता है। अगर हम रिस्क के हिसाब से नहीं बेचेंगे तो हम कभी भी प्रॉफिट में नहीं आ सकते।

अक्सर हम 28 पर भी नहीं बेचते और जब वह 15 पर पहुंच जाता है,तब भी नहीं बेचते। यहां हम गलती करते है। जबकि शेयर मार्केट में हमेशा बहुत-सी कंपनी सस्ते में शेयर देती है।

 

गलत शेयरों का चुनाव

पहली गलती यह होती है कि हम सही शेयर नहीं चुन पाते। निवेश लंबे समय के लिए कर रहे है तो खासतौर पर इस पर ध्यान दें। कंपनी का 5 साल का रेकॉर्ड चेक करना चाहिए। कापनी की वेबसाइट्स पर जाकर कंपनी के बारे में जानकारी ली जा सकती है।

कुछ खास बातों पर ध्यान देना चाहिए। सबसे पहले यह देखें कि कंपनी का रिटर्न ऑन कैपिटल इंप्लॉइड,कंपाउंड एनुअल ग्रोथ रेट,प्राइस ऑफ अर्निंग रेश्यो क्या हैl कंपनी का सालाना ग्रोथ रेट है जो 10 पर्सेंट से ऊपर हो अच्छा है। इसी तरह रेश्यो 20 पर्सेंट से कम हो तो ठीक कहा जा सकता है। कंपनी की शेयर अर्निंग का कितना गुना मूल्य शेयर बाजार में है।

यह जितना कम हो उतना ही अच्छा है। कंपनी में ग्रोथ कितनी है और आगे आने वाले समय में क्या करने वाले है,इसका भी ध्यान रखना चाहिए। जैसे उसकी लोकेशन,टेक्नॉलजी,रॉ मटेरियल में पकड़,कस्टमर से लंबा अग्रीमेंट आदि। ये सब कंपनी को बढ़िया निवेश के लायक बनाते है। कंपनी की वेबसाइट,एनुअल रिपोर्ट,इन्वेस्टर प्रेजेंटेशन से इकनोमिक मोट को समझा जा सकता है।

Share Market Me Paise Kaise Lagaye
Share Market Me Paise Kaise Lagaye

 

मार्केट अप हो तो सेलिंग न करना

स्टॉक मार्केट जब ऊपर होती है, तब सेलिंग करनी चाहिए पर हम सेलिंग नहीं करते। कम से कम कुछ प्रॉफिट बुकिंग तो उस वक्त जरूर करनी चाहिए। जब मार्केट बहुत ज्यादा गिर जाती है तब हमें खरीदारी करनी चाहिए। यह ध्यान रखना चाहिए कि पूरा पोर्टफोलियो न बेचें तो कम से कम 40 पर्सेंट तो बेच सकते है। ज्यादातर लोग उलटा करते हैं कि तेजी में खरीदते है और मंदी के डर से बेच रहे होते है।

गिरते शेयरों की खरीदारी नहीं करना।

जो शेयर लगातार गिर रहे हों उनमें कभी भी खरीदारी नहीं करनी चाहिए। उदाहरण के लिए एक बैंक 800 रुपये तक के उच्चतम पर था और वह जब नीचे गिरने लगा तो लोगों ने 200 से 300 रुपये पर खूब खरीदारी की। यह लेख योग्य Face mask है, या ऑनलाइन खरीदें और आज चिकित्सा विभाग में स्टोर में उठाएं।

बुरी तरह गिरते-गिरते यह 10 रुपये तक आ गया था। रिलायंस कम्युनिकेशन जो किसी जमाने में 800 रुपये पर जा चुका है,अब करीब 1.5 रुपये पर लिस्टेड है। रिलायंस पावर का IPO 500 रुपये पर आया था और अब करीब 12 रुपये पर लिस्टेड है। गिरती हुई कंपनियों से हमेशा दूरी बनाकर रखनी चाहिए।

घाटे वाली कंपनियों से शेयर न लेना

लगातार घाटा करने वाली कंपनियों में पैसा नहीं लगाना चाहिए। उदाहरण के लिए वोडाफोन को देखें। यह मशहूर कंपनी है लेकिन मोटे नुकसान में जूझ रही है। उस पर इतना लोन है कि वह जल्दी प्रॉफिट में नहीं आ सकती है। इसी तरह आलोक इंडस्ट्रीज लगातार लॉस में है। जेपी पावर,जेपी असोसिएट, रिलायंस कैपिटल आदि कंपनियां भी लोन में फंसी है। इनके बढ़ने की उम्मीद कम है, इसलिए ऐसी कंपनियों से बचना चाहिए।

गलत सेक्टर में पैसे लगाना

गलत सेक्टर में पैसा लगाना जैसे कि एयरलाइंस,शिपिंग, सिनेमा कंपनियां आदि। इसमें आपको ज्यादा ग्रोथ नहीं मिलेगी। स्टार्टअप की जो स्लॉट बुकिंग कंपनी हैं जैसे जोमाटो, पेटीएम पॉलिसी बाजार आदि ने भी लोगों का बहुत नुकसान किया है। ऐसी ही बहुत-सी कंपनी है जिनकी वजह से हम गलत सेक्टर में पैसा लगा देते है। हमेशा अच्छे सेक्टर में पैसा लगाएं। ऐसी कंपनी चुनें जो प्रॉफिट मेकिंग हो। यहां एयरलाइंस का मतलब यह नहीं कि एयरपोर्ट ऑपरेटर या इंजीनियरिंग कंपनियों में निवेश नहीं कर सकते,बल्कि इनमें निवेश करना चाहिए।

 

भारी कमाई की कोशिश

एक दिन में शेयर खरीदना और उसी दिन बेच देना ऐसे पैसा नहीं लगाना चाहिए। गलती यहीं होती है कि हम जल्दी से जल्दी भारी कमाई के चक्कर में इस तरह की ट्रेडिंग करते है और उसके अंदर हमारे को हमेशा ही नुकसान होता है क्योंकि हम न कोई एक्सपर्ट है और दिन की उथल-पुथल में हम कभी भी कमा नहीं सकते है। इसलिए बिना किसी एक्सपर्ट सलाह के फ्यूचर ऑप्शन ट्रेडिंग से हमेशा बचना चाहिए। यह कोरी सट्टेबाजी है।

 

पैनिक में शेयर बेचना

कभी भी पैनिक में आकर या अफवाहों के झांसे में आकर अपने शेयर नहीं बेचने चाहिए। अगर आपने किसी कंपनी के शेयर पूरी जांच-परख के बाद खरीदे है तो कंपनी के बारे में अपनी स्टडी पर भरोसा रखें। सचाई का पता लगाने की कोशिश करें। अगर कभी कंपनी के बारे में कोई नेगेटिव न्यूज आए तो खुद भी पता करें और किसी एक्सपर्ट से भी राय लें।

 

स्टॉप लॉस 

अगर हमारा शेयर तेजी पर है तो भी हमें स्टॉप लॉस नहीं रखना चाहिए। स्टॉप लॉस वह कीमत है जिस पर हम अपना शेयर बेच देते है। मान लें कि हमने किसी कंपनी का शेयर 50 रुपये में खरीदा था। वह बढ़ते हुए अब 56 रुपये का हो गया। यहां हमें एक स्टॉप लॉस बना लेना चाहिए, जैसे अब 54 रुपये से नीचे आते ही उस शेयर को बेचना होगा।

अगर आपने 50 रुपये का शेयर खरीदा और वह नीचे आने लगा, ऐसे में आप 45 रुपये पर स्टॉप लॉस लगा सकते हैं। इस पर हिट करते ही बेचना है। अगर स्टॉप लॉस को मेंटेन नहीं करेंगे तो भारी नुकसान उठा सकते हैं। वहीं, लंबे टाइम के निवेशक स्टॉप लॉस 25 पर्सेंट तक रख सकते हैं क्योंकि उनका रुझान कम से कम 1 साल का हो सकता है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *